For More Photos Of Aacharya Shantisagar Click Here

आचार्य श्री सुनील सागर जी महाराज

२० वीं सदी के मुनि कुंजर आ. आदिसागर जी अंकलीकर के चतुर्थ पट्टाचार्य श्री सुनील सागर जी  का जन्म अतिशय क्षेत्र तिगोदा जी जिला सागर में हुआ था।आपके बचपन का नाम संदीप था।आपके पिता का नाम  भाग्चंदजी जैन औरमाता का नाम मुन्नी देवी था |आपके भाई काम प्रदीप जी और बहिन रानी थी।आपकी शिक्षा किशनगंज जिला दमोह में हुई थी।आपने बी. कॉम. तक की शिक्षा ग्रहण की ।आपकी मुनि दीक्षा गणेश प्रसाद वर्णी दिग. जैन विश्व विद्यालय बरुआ सागर जिला झासी में तपस्वी सम्राट  आचार्य सन्मति  सागर जी के कर कमलों से हुई ।आपने ब्रह्मचर्य अवस्था भरत सागर जी के पास जाकर भी शिक्षा ग्रहण की।आचार्य सन्मति सागर जी की समाधि के बाद जन मानस के आचार्य पद   के लिए निवेदन करने उन्होंने कहा की मुझे पद नहीं चाइये अगर किसी और को चाइये तो उसे दे दीजिए ।इससे उनकी पद के प्रति विरक्ति साफ़ झलकती है।आप वात्सल्य के धनी है।समाज के कहने पर और सन्मति सागर जी पत्र द्वारा आप को चतुर्थ पट्टाधीश के पद पर विराजित किया और आप मुनि श्री सुनील से सागर जी से आचार्य श्री सुनील सागर जी बन गए।आपने आचार्य पद ग्रहण करने बाद प्रवचन में समाज को संबोधित  करते हुए  कहा की मैं इस आसन पर नहीं बेठना चाहता था यह आसन तपस्वी के तप से तपा हुआ है,मैं इस पर बैठकर अपना उत्तर दायित्व निभाहुंगा

संक्षिप्त परिचय

जन्म: ७.१०.१९७७
जन्म स्थान : तिगोदा, डिस्ट्रिक्ट. सागर (मध्यप्रदेश)
जन्म का नाम संदीपकुमार जैन
माता का नाम : मुन्नी देवी जैन
पिता का नाम : भाग्चंदजी जैन
शिक्षा : बी. कॉम. शास्त्री
दीक्षा नाम : सुनील सागरजी महाराज
दीक्षा गुरु : आचार्य श्री सन्मति सागरजी महाराज
मुनि दीक्षा स्थल : बरुआ सागर डिस्ट्रिक्ट : झाँसी (उत्तरप्रदेश )
आचार्य पद तिथि: सन 2010
आचार्य पद प्रदाता: आचार्य श्री सन्मति सागरजी महाराज
समाधि स्थल :  
समाधि तिथि :  
विशेषता : बालब्रह्मचारी, लेखक, चिन्तक, मनन.



आचार्य श्री १०८ आदिसागर जी महाराज (अंकलीकर)
आचार्य श्री १०८ महावीर कीर्ति जी महाराज
आचार्य श्री १०८ विमल सागर जी महाराज
आचार्य श्री १०८ सन्मति सागर जी महाराज
आचार्य श्री १०८ सुनील सागर जी महाराज

Aacharya Shri 108 Sunil Sagar Ji

 


Brief Introduction

Birth :
7th Oct 1977
Birth Place: 
Tigoda, District. Sagar, Madhyapradesh
Birth Name :
Sandeep Kumar Jain
Mothers Name :
Munnidevi
Father’s Name :
Bhagchandji Jain
Eduction :
B.Com. Shastri
Diksha Name :
Shri Sunil Sagar ji
Diksha Guru:
Aacharya Sanmati Sagar Ji
Place of Diksha :
Barua Sagar district. Jhansi, Uttarpradesh
Aacharya Pad :
Year 2010
Acharya Pad Pradata:
Aacharya Sanmati Sagar ji
Samadhi Place:
 
Samadhi Tithi
 
Importance
Balbrahmachari, Writer, Manan


Aacharya Shri 108 Aadisagar Ji Maharaj (Anklikar)
Aacharya Shri 108 Mahaveer Kirti Ji Maharaj
Aacharya Shri 108 Vimal Sagar Ji Maharaj
Aacharya Shri 108 Sanmati Sagar Ji Maharaj
Aacharya Shri 108 Sunil Sagar Ji Ji Maharaj