आचार्य श्री विद्याभूषण सन्मति सागर जी


संक्षिप्त परिचय

जन्म: १० नवम्बर १९४९
जन्म स्थान : बरवाई ,मुरेना (म.प्र.)
जन्म का नाम सुरेश चंद जैन
माता का नाम : श्रीमती सरोज देवी जैन
पिता का नाम : बाबूलाल जी जैन
ऐलक दीक्षा : १७ /०२ / १९७२
मुनि दीक्षा : १९८८ महावीर जयंती के दिन
मुनि दीक्षा का स्थान : सोनागिरी
मुनि दीक्षा गुरु : आचार्य श्री १०८ सुमति सागर जी महाराज
आचार्य पद : १९८८ महावीर जयंती के दिन
आचार्य पद का स्थान : सोनागिरी
समाधि : १४ मार्च २०१३ १२:४० (दोपहर)
समाधि स्थल : श्री वर्धमान दिग जैन मंदिर, शकरपुर
विशिष्ट गुण: ज्योतिषी ,फेस रीडर ,दयालु, मृदुभाषी, विनम्र प्रकृति


समाधि प्रसंग विवरण :-आधी रात को सिंहरथ प्रवर्तक, त्रिलोकतीर्थ प्रणेता परम पूज्य विद्याभूषण आचार्य श्री सन्मतिसागर जी महाराज को अचानक छाती में दर्द हुआ तो तभी कुछ लोग इकठा हुआ और एक जैन डॉक्टर को बुलाया गया तथा उन्होंने आचार्य श्री का ट्रीटमेंट therapy से थोडा बहुत किया... अब कुछ खा या पी तो सकते नहीं, जितना हो सका डॉक्टर आदि लोगो ने मिलकर किया, जिससे महाराज जी कुछ relief हुआ, तभी रात को महाराज जी ने समाधि की बात कही... सुबह हुई तो महाराज जी आहार नहीं लिया और अपने संघ के मुनिराजो को आने को बोल दिया... सब संघ मुनिराज, माता जी आदि जल्दी से वहा पहुच जाए, तथा आचार्य श्री के कुछ घर सम्बन्धी भी पहुचे तब आचार्य श्री ने सबको कहा की अगर मेरी तबियत खराब होती है तो भी आप डॉक्टर को नहीं बुलाओगे, और मेरी जीवनभर की तपस्या को खराब नहीं करोगे ! फिर महाराज जी बोले मेरी तबियत ठीक नहीं है और सामायिक का समय भी हो रहा है तो मैं सामायिक करता हूँ अब, फिर आचार्य श्री सामायिक करने ध्यान में बैठ गए... और उस समय आचार्य श्री के परिणाम बहुत निर्मल और शांत थे, बस सामायिक करते करते ही उनकी समाधी हो गयी !! आचार्य श्री के पावन चरण कमलो में हमारा त्रिवर नमोस्तु ! ॐ शांति !

आचार्य श्री १०८ शांति सागर जी महाराज (छाणी)
आचार्य श्री १०८ सूर्य सागर जी महाराज
आचार्य श्री १०८ विजय सागर जी महाराज
आचार्य श्री १०८ विमल सागर जी महाराज (भिंड वाले)
आचार्य श्री १०८ सुमति सागर जी महाराज
आचार्य श्री विद्याभूषण सन्मति सागर जी

Aacharya Shri 108 Vidyabhushan Sanmati Sagar Ji Maharaj



Brief Introduction

Birth :
10 November 1949
Birth Place: 
Barwai,Morena (M.P)
Birth Name :
Suresh Chand Jain
Mothers Name :
Shrimati Saroj Devi Jain
Father’s Name :
Shri Babulal Ji Jain
Elak Diksha :
17 Feb 1972
Muni Diksha :
1988 Mahaveer Jyanti
Place of Muni Diksha :
Sonagiri
Diksha Guru :
Aacharya Sumati Sagar
Pattacharya Pada:
1988 Mahaveer Jyanti
Place of Acharya Pada:
Sonagiri
Samadhi:
14 March 1988,12:40 PM.
Place Of Samadhi:
Shri Dig Jain Mandir Shakarpur
Qualities- :
Astrologer ,Samudrik Shastra Vektta, Face Reader ,Kind Hearted,Soft Spoken,Humblle Nature


Aacharya Shri 108 Shantisagar Ji Maharaj (Uttar)
Aacharya Shri 108 Surya Sagar Ji Maharaj
Aacharya Shri 108 Vijay Sagar Ji Maharaj
Aacharya Shri 108 Vimal Sagar Ji Maharaj(Bhind)
Aacharya Shri 108 Sumati Sagar Ji Maharaj
Aacharya Shri 108 Vidyabhushan Sanmati Sagar Ji Maharaj