आचार्य श्री १०८ विमल सागर जी (भिंड वाले)


संक्षिप्त परिचय

जन्म: पौष शुक्ल २ विक्रम संवत १९४८ (१-१-१८९२ )
जन्म स्थान : ग्राम मोहना ,जिला ग्वालियर (म.प्र.)
जन्म का नाम श्री किशोरी लाल जैन
माता का नाम : मथुरा देवी जैन
पिता का नाम : श्री भीकम चंद जैन
क्षुल्लक दीक्षा : विक्रम संवत १९९८ (सन १९४१)
दीक्षा का स्थान : पाटन, जिला-झालाबाड़ा
मुनि दीक्षा : विक्रम संवत २००० सन १९४३
मुनि दीक्षा का स्थान : सागोद जिला -कोटा राज.
मुनि दीक्षा गुरु : आचार्य श्री १०८ विजय सागर जी महाराज
आचार्य पद : सन १९७३ विक्रम संवत २०३०
आचार्य पद का स्थान : हाड़ोती
समाधि मरण : १३ अप्रैल १९७३ (विक्रमसंवत २०३० )
समाधी स्थल : सांगोद ,जिला कोटा (राज.)

आचार्य श्री विजय सागर जी के शिष्यों में आचार्य श्री १०८ विमल सागर जी (भिंड वाले) एक सुयोग्य शिष्य हुए।आचार्य विमल सागर जी का जन्मपौष शुक्ल २ विक्रम संवत १९४८ (सन १८९२ ) में ग्राम मोहना ,जिला ग्वालियर (म.प्र.)में हुआ । आपने क्षुल्लक दीक्षा विक्रम संवत १९९८ (सन १९४१) में पाटन, जिला-झालाबाड़ा में हुई एवं मुनि दीक्षा विक्रम संवत २०००,सागोद जिला -कोटा राज. में आचार्य विजय सागर जी महाराज से ग्रहण करी।आपके सदुपदेश से अनेको जिनालयो का निर्माण और जिनबिम्बों की प्रतिष्ठा हुई ।आपके सानिध्य में अनेक पञ्च कल्याणक प्रतिष्ठा और गजरथ मोहोत्सव संपन्न हुए।भिंड नगर को आपकी विशेष देन है ।भिंड नगर में अनेक जिनबिम्बो की स्थापना करने के कारन 'भिंड वाले महाराज' के नाम से विख्यात हुए।आचार्य विजय सागर जी ने अपना आचार्य पद विमल सागर (भिंड) को सन १९७३ विक्रम संवत २०३० को हाड़ोतीमें दिया। आचार्य विमल सागर जी ने अनेको दीक्षाए दी उनके शिष्यों में आचार्य सुमति सागरजी,आचार्य निरमल सागर जी ,आचार्य कुन्थु सागर जी ,मुनि ज्ञान सागर जी आदि अतिप्रसिद्ध है ।विमल सागर जी ने अपना आचार्य पद ब्र. ईश्वरलाल जी के हाथ पत्र द्वारा सुमति सागर जी को दिया था।आचार्य विमल सागर जी का समाधिमरण १३ अप्रैल १९७३ (विक्रमसंवत २०३० )में सांगोद ,जिला कोटा (राज.)में हुआ था ।

 


आचार्य श्री १०८ शांति सागर जी महाराज (छाणी)
आचार्य श्री १०८ सूर्य सागर जी महाराज
आचार्य श्री १०८ विजय सागर जी महाराज
आचार्य श्री १०८ विमल सागर जी महाराज (भिंड वाले)
आचार्य श्री १०८ सुमति सागर जी महाराज
आचार्य श्री विद्याभूषण सन्मति सागर जी

Aacharya Shri 108 Vimal Sagar Ji Maharaj (Bhind)


Brief Introduction

Birth :
Posh Shukl 2 Vikram Saamvat 1948(1-1-1892)
Birth Place: 
Gram-Mohna,District - Gwalior M.P.
Birth Name :
Shri Kishori Laal Jain
Mothers Name :
Shrimati Mathura Devi Jain
Father’s Name :
Shri Bhikam Chand Jain
Ksullak Diksha :
Vikram Samvat 1997,(1941)
Place of Kshullak Diksha :
Gram-Patan ,District-Jhalabhada
Muni Diksha :
Vikram Samvat 2000,Year 1943
Place of Muni Diksha :
Haat Piplaya ;District -Dewas (M.P.)
Diksha Guru :
Aacharya Vijay Sagar
Acharya Pada:
Vikram Samvat 2030(13 April 1973)
Place of Acharya Pada:
Haadoti
Samadhi :
Chaitra Shukla 11, Vikram Samvat 2030,(13 April 1973)
Samadhi Place :
Sangod,District -Kota (Raj.)

Aacharya Shri 108 Shantisagar Ji Maharaj (Uttar)
Aacharya Shri 108 Surya Sagar Ji Maharaj
Aacharya Shri 108 Vijay Sagar Ji Maharaj
Aacharya Shri 108 Vimal Sagar Ji Maharaj(Bhind)
Aacharya Shri 108 Sumati Sagar Ji Maharaj
Aacharya Shri 108 Vidyabhushan Sanmati Sagar Ji Maharaj