8) Uttam Tyag उत्तम त्याग धर्म :(Uttam Tyag meaning IDEAL RENUNCIATION.)IDEAL RENUNCIATION ~ Now-a-days everywhere just airing vibes of "Make life standard superior, Do increase standard of living" people forgot the ideal of preceptor and they don't percept called "standard of living" we're going on the way of "discomposure" "longing" "jealousy" Oh ! Instead of making life living ideal people just going on decadence to death. Peace is not in the debauchery, it is in longanimity. Today's Supreme Renunciation day is for acceptance of peace and calamity in life by adopting IDEAL PRECEPTOR'S PREACHING. - Based on Jinendra Varni G's Santi Path Pradarsan.

उत्तम त्याग धर्म :
उत्तम त्याग धर्म की चर्चा जब भी चलती है, तब तब पराया दान को ही त्याग समझ लिया जाता है| त्याग के नाम पर दान के ही गीत गाये जाने लगते हैं, दान की ही प्रेरणाएं दी जाने लगती हैं| त्याग एक ऐसा धर्म है, जिसे प्राप्त कर यह आत्मा अकिंचन यानि अकिन्चन्य धर्म की धारी बन जाती है, पूर्ण ब्रह्म में लीन होने लगती है, हो जाती है और सारभूत आत्म्स्वभाव को प्राप्त कर लेती है|