12 Vrat
To achieve Moksha we need the right knowledge, right faith, and right conduct known as three jewels of Jainism. Regarding right conduct, we must achieve control over our inner desires and reach a stage where there is no attachment or hatred. It is not as easy as it sounds, for we will have to form new habits and discard old habits. In order to change our habits, we take vows which help us to restrict what we do and eventually live naturally restrained. Although different people take different vows and despite the outer differences in the observance of these vows, the goal of all is to attain right conduct. As we find in the scriptures, there are different vows for monks and nuns, and for male and female house holders.
When one makes a resolution to restrain willfully from something with full understanding and faith then that resolution becomes a vow. The scriptures have divided these vows into two main groups:
1) Maha Vrats (Major Vows or Absolute Vows)
2) Anu Vrats (Minor Vows or Relative Vows)

1) Maha Vrats
In these vows, non-violence, truthfulness, non-stealing, celibacy, and non-possessiveness are observed mentally, verbally, and physically in total. Each of these three aspects are further observed in three ways: not committing yourself, not asking anyone else to do so, and not encouraging anyone else to do so. Those who wish to observe these vows renounce their worldly lives and become known as sadhus (monks) and sadhvis (nuns) or Anagari.
2) Anu Vrats
It is difficult for house holders to fully practice the above vows, and so, the vows that house holders take have some limitations and are called minor vows. These vows are not as stringent as Maha vrats and people who that take these vows are called shravaks, shravikas, or Agari.
MAHA VRATS
1) Savvao Panaivayao Virman Vrat (Absolute Non-Violence Vow)
In this vow, non-violence is observed mentally, verbally, and physically in total including for daily needs.

2) Savvao Musavayao Virman Vrat (Absolute Truthfulness Vow)
In this vow, lying is given up mentally, verbally, and physically in total. Only the truth is spoken.

3) Savvao Aadinnadanao Virman Vrat (Absolute Non-Stealing Vow
In this vow, stealing is given up mentally, verbally, and physically in total. Nothing is taken unless it is offered by the owner, and meets the restrictions of the monkshood life.

4) Savvao Mehunao Virman Vrat (Absolute Celibacy Vow)
Celibacy is observed mentally, verbally, and physically in total. Upon taking this vow, one can not even touch or think about a member of the opposite sex.

5) Savvao Pariggrahao Virman Vrat (Absolute Non-Possessiveness Vow)
Greed and material possessions are given up mentally, verbally, and physically in total. Only items which are needed on a daily basis are kept.
ANU VRATS
1) Sthool Panaivayao Virman Vrat (Limited Non-Violence Vow)
Being a house holder, you must carry out house hold and community activities. Thus, it is not possible to totally avoid violence, especially against one sensed living beings. However, you should take the utmost care to observe non-violence.
2) Sthool Musavayao Virman Vrat (Limited Truthfulness Vow)
You should take the utmost care in not telling lies. Another words you should only speak the truth.
3) Sthool Aadinnadanao Virman Vrat (Limited Non-Stealing Vow)
You should take the utmost care not to steal or borrow the belongings of others without their permission.
4) Sthool Mehunao Virman Vrat (Limited Celibacy Vow)
You should be satisfied with your spouse only and should avoid sexual contact with others.
5) Sthool Pariggahao Virman Vrat (Limited Non-Possessiveness Vow)
Your earning for material possessions, and greed for collection should be as limited as possible.
GUNA VRATS (Supporting Vows)
The following vows support the above five vows so that they can be carried out more effectively.
6) Disha Pariman Vrat (Geographic Limitation Vow)
Since it is necessary to move only so much to satisfy your needs, you should limit your desire to perform activities within a needed radius of area. Therefore, you should set limits within the scope of travel or business, etc.
7) Bhogopbhog Virman (Consumption and Occupation Limitation Vow)
You should set limits on the consumption of various items, despite whether they are used once or repeatedly, to avoid incoming sins. Also, you should limit yourself to the kind of occupation you select because some occupations have more exposure to sins than others.
8) Anartha Dand Virati Vrat (Purposeless Violence Limitation Vow)
We sometimes carry out activities for fun or to tease our friends and foes. However, we should realize that all such activities attract karmas. This vow reminds us not to build unnecessary karma.
SHIKSHA VRAT (Training Vows)
The above eight vows tell us how we can limit our actions in order to reduce the inflow of karma. The next four vows train us to stop karma from coming in, and to get rid of existing karmas.
9) Samayik Vrat (Self-control and Equanimity Vow)
Since we live a social life, it may not be possible to spend much time in shedding karmas, but we should spend at least forty-eight minutes a day in such efforts. During these forty-eight minutes, we give up all familial, social, economical, and cultural responsibilities, and we control ourselves mentally, verbally, and physically. During this time we should concentrate on religious readings or meditation, which will help prevent new karma from coming in as well as help get rid of our old karma. This 48 minutes will also give us a glimpse as to how easy or difficult it may be to control ourselves. Once we become accustomed to doing this, we may extend the self-control time to a period of more than 48 minutes.
10) Dishavakashik Vrat (Day to Day Additional Limitation Vow)
At the time of waking up, we take this vow in order to put definite limits on our activities for that day, and thus, limit our exposure to accumulating karma. In this way we learn to live a more controlled life.
11) Poshadh Vrat (Monkshood Exposure Vow)
This vow teaches us how to live like a monk, or a nun, for a day. By taking this vow, we give up all our household, social, economical, and cultural responsibilities for a day. We should practice this vow as often as possible. By practicing this vow, the inflow of new karma is slowed down, and existing karmas are eradicated. If this vow is easy to observe it may eventually lead to monkshood.
12) Atithi Savinbhag Vrat (Selfless Offerings to Unexpected Guests Vow)
This vow teaches us to share. Sharing is more worthwhile when an unexpected, needy person comes to your door and you offer with an open heart. Monks and nuns are the best receptors for this type of sharing. However, while giving, you should not have any regrets or expectations in your mind. By sharing, you are developing a sense of detachment with the feeling that nothing is mine. Observing this vow will lead to liberation from worldly life.
Our thoughts while taking these vows are also very important. They should be positive and meant to destroy karmas.

There are three common obstacles to our vows:
1) Maya (Deception)
2) Niyanu (Expectations)
3) Mithyatva (Wrong Beliefs)

1) Maya (Deception) When you take a vow, it should be for the betterment of your soul. Vows should not be taken to show-off or receive praise. Also, they should not to be taken to deceive or they will produce inferior results.
2) Niyanu (Expectations) Many of us take vows in order to gain something materialistic in return. Such is not good because not only do we use up what we achieve, but we lose the main purpose of performing vows, to destroy karmas.
Mithyatva (Wrong Beliefs) 3) This occurs when one, without belief in liberation, takes the vow that the ultimate pleasure of the body is the prime purpose in this life. We should not forget that austerities are performed to liberate the wandering soul from worldly engrossment. We must understand the value of the vows mentally, verbally, as well as physically, or they will not bear the proper results.
If you can live with these ethics, then, you will eventually be living with right conduct.

12 व्रत

व्रत का लक्षण :- पापों के परित्याग को व्रत कहते है।हिंसा ,झूठ ,चोरी ,कुशील और परिग्रह ये पञ्च पाप है।पापों का परिपूर्ण त्याग महाव्रत तथा उनका आंशिक त्याग अणुव्रत कहलाता है।
अणु व्रतों का स्वरुप:- अहिंसाणुव्रत ,सत्याणुव्रत ,अचोर्याणुव्रत ,ब्रह्मचर्याणु व्रत और परिग्रहपरिमाणव्रत ।

अहिंसाणुव्रत :-अपने स्वार्थ की पूर्ति के लिए राग द्वेष पूर्वक किसी जीव को मन वचन काय से पीड़ा पहुचना हिंसा है।इस हिंसा के स्थूल त्याग को अहिंसाणुव्रत कहते है ।जैन दर्शन में त्रस और स्थावर के भेद से दो प्रकार के जीव बताये गए है।उनमे संकल्पपूर्वक त्रस जीवों के घात का मन वचन काय से त्याग करना अहिंसाणुव्रत है।हिंसा के चार भेद है- संकल्पी हिंसा ,आरंभी हिंसा ,औद्योगिक हिंसा ,विरोधी हिंसा
संकल्पी हिंसा:-संकल्प पूर्वक किसी जीव का घात करना अथवा उसे कष्ट पहुचाना संकल्पी हिंसा है।कसाइयों द्वारा प्रतिदिन असंख्य पशुओं को मौत के घाट उतारा जाना इसी संकल्पी हिंसा का परिणाम है।आतंकवाद ,जातीय संघर्ष ,दंगे एवं अपने मनोरंजन के लिए अथवा मांसाहार के लिए शिकार करना या कराना इसी संकल्पी हिंसा की पर्याय है।इसके अतिरिक्त धर्म के नाम पर की जाने वाली पशुओं की बलि भी इसी हिंसा के अंतर्गत आता है।
आरंभी हिंसा:-घरेलु कामकाज ,दैनिक कार्यों के निमित्त से होने वाली हिंसा आरंभी हिंसा है ।इसके अंतर्गत भोजन बनाना,झाड़ना .बुहारना ,नहाना -धोना आदि क्रियाये आती है।
औद्योगिक हिंसा :जीवकोपार्जन के लिए खेती-बाड़ी ,नोकरी ,व्यवसाय ,उद्योग -धंधो के निमित्त सेहोने वाली हिंसा ।
विरोधी हिंसा :-अपने राष्ट्र ,धर्म ,संस्कृति ,समाज ,कुटुम्ब और परिवार की अस्मिता और अस्तित्व की रक्षा के लिए की जाने वाली हिंसा विरोधी हिंसा है।
इन चार प्रकार की हिंसाओं में अहिंसाणुव्रती मात्र संकल्पी हिंसा का त्याग करता है।वह संकल्प पूर्वक मन वचन काय से किसी भी प्राणी का घात अपने मनोरंजन एवं स्वार्थ पूर्ति के लिए नहीं करता तथा ३ प्रकार की हिंसा को भी अपने विवेक से कम करता है।
2.सत्याणुव्रत :- स्थूल झूठ का त्याग सत्याणुव्रत व्रत है।अहिंसा की आराधना के लिये सत्य की उपासना अनिवार्य है।झूठा व्यक्ति सही अर्थो में अहिंसक आचरण नहीं कर सकता तथा सच्चा अहिंसक कभी असत्य आचरण नहीं कर सकता ।सत्य और अहिंसा में इतना घनिष्ठ सम्बन्ध है कि एक के आभाव में दुसरे का पालन हो ही नहीं सकता ।ये दोनों एक दुसरे के पूरक है। गृहस्थ के लिए सर्वथा त्याग संभव नहीं है।इसलिए उससे स्थूल झूठ का ही त्याग कराया जाता है।जिस झूठ से समाज में प्रतिष्ठा न रहे ,प्रमाणिकता खंडित हो ,लोगो में अविश्वास उत्पन्न होता हो तथा राजदंड का भागी बन ना पड़े,इस प्रकार के स्थूल झूठ का मन वचन काय से सर्वथा त्याग करना सत्याणुव्रत है।सत्याणुव्रत कभी ऐसा सत्य नहीं बोलेगा जिस से किसी पर आपत्ति आती हो ।वह अपनी अहिंसक भावना कि सुरक्षा के लिए हित मित और प्रिय वचनों का ही प्रयोग करता है।
3.अचोर्याणुव्रत :- स्थूल चोरी का त्याग अचोर्याणुव्रत है।चोरी हिंसा का एक रूप है।अहिंसा के परिपालन के लिये चोरी का त्याग भी आवश्यक है।जब किसी कि कोई चीज चोरी हो जाती है अथवा वह किसी प्रकार से ठगा जाता है तो उसे बहुत मानसिक पीड़ा होती है।उस मानसिक पीड़ा के परिणाम स्वरुप कभी कभी हार्ट अटैक भी हो जाता है।अत:चोरी करने से अहिंसा नहीं पल सकती तथा चोरी करने वाला सत्य का भी पालन नहीं कर सकता।क्यों कि सत्य और चोरी दोनों साथ साथ नहीं रह सकते ।जिस पर अपना स्वामित्व नहीं है ऐसी किसी भी पराई वस्तु को बिना अनुमति के ग्रहण करना चोरी है।श्रावक स्थूल चोरी का त्याग करता है।वह जल और मिटटी के आलावा बिना अनुमति के दूसरों के स्वामित्व कि वस्तु का उपयोग नहीं करता ।वह मार्ग में पड़ी हुई ,रखी हुई या किसी कि भूली हुई अल्प या अधिक मूल्य वाली किसी वस्तु को ग्रहण नहीं करता।अचोर्याणुव्रत उक्त प्रकार की समस्त चोरियों का त्याग कर देता है।जिनके करने से राज दंड भोगना पड़े ,समाज में अविश्वास बढता हो तथा प्रमाणिकता खंडित होती हो,प्रतिष्ठा को धक्का लगता हो।किसी को ठगना ,किसी की जेब काटना ,किसी का ताल तोडना ,किसी को लूटना ,डाका डालना ,किसी के घर सेंध लगाना,किसी की संपत्ति हड़प लेना ,किसी का गडा धन निकल लेना चोरी ही है।
ब्रह्मचर्याणु व्रत:- काम प्रवृत्ति के त्याग को ब्रह्मचर्याणु व्रत कहते है।काम संबंधों को अपनी पत्नी/पति तक ही सिमित रखना ब्रह्मचर्याणु व्रत है। गृहस्थ अपनी कमजोरी वश पूर्ण ब्रह्मचर्य ग्रहण नहीं कर सकता,उसके लिए विवाह का मार्ग खुला है।वह विवाह करके कोटुम्भिक जीवन में प्रवेश करता है।उसके विवाह का प्रमुख उद्देश्य धर्म ,अर्थ औरका पुरुषार्थ का सम्यक प्रकार से सेवन करना है ।विवाह के बाद वह अपनी पत्नी के अतिरिक्त अन्य सभी स्त्रियों को माता ,बहिन ,पुत्री की तरह समझता है तथा पत्नी अपने पति के आलावा अन्य पुरुषों को पिता,भाई और पुत्र की तरह समझती है।दोनों एक दुसरे में ही संतुष्ट रहते है।इसे ब्रह्मचर्याणु व्रत या स्वदार-संतोष-व्रत कहते है।
परिग्रहपरिमाणव्रत :-अपनी आवश्यकताओं के अनुरूप धन -धान्यादि पदार्थों की सीमा बनाकर उससे अधिक का त्याग करते हुए उनके प्रति निस्पृह भाव रखना परिग्रहपरिमाणव्रत है।धन धान्यादि बाह्य पदार्थों के प्रति ममत्व या आसक्ति को परिग्रह कहते है।जो मनुष्य संपत्ति की जितनी अधिक कामना करता है,उसमे उतना ही अधिक ममत्व या आसक्ति होती है।अपनी इसी आसक्ति के कारण आवश्यकता न होने पर भी वह अधिक से अधिक धन प्राप्त करने की कोशिश करता है,किन्तु जैसे जैसे लाभ होता है वैसे वैसे लोभ भी बढता जाता है।वह अपने इसी लोभ के कारण अधिकाधिक धनसंग्रह करता है।परिग्रह की होड़ में दिन रात बेचैन रहता है।यह लोभ और तृष्णा ही हमारे दुःख का मूल कारण है।धन संपत्ति से सुख की कामना करना ईधन से आग बुझाने की तरह है। इसलिए श्रावक अपनी आवश्यकताओं के अनुरूप धन-धान्यादि बाह्य पदार्थों की सीमा बनाकर उसमे ही संतोष रखता है।उसके अतिरिक्त पदार्थों के प्रति कोई ममत्व नहीं रखता ।इससे सहज ही वह अपनी अंतहीन इच्छाओं को एक सीमा में बांध लेता है इसलिए इसे इच्छा -परिमाणव्रत भी कहते है।
गुण व्रतों का स्वरुप :- जिस से अणुव्रतों में विकास होता है उसे गुण व्रत कहते है।गुण व्रत तीन है- दिग्व्रत ,अनर्थ दंड त्याग व्रत तथा भोगोपभोग-परिमाण व्रत
दिग्व्रत :-जीवनपर्यंत के लिए दशों दिशाओं में आने जाने की मर्यादा बना लेना दिग्व्रत है।लोभ के शमन के लिए दिग्व्रत लिया जाता है।क्योंकि इससे मर्यादीकृत क्षेत्र से बाहर के क्षेत्रों में कितना भी बड़ा प्रलोभन हो वह बाहर जाने का भाव नहीं रखता तथा अपने सिमित साधनों में ही संतुष्ट रहता है।तृष्णा की कमी हो जाने से यह व्यक्तिगत निराकुलता का साधन तो है ही विदेश गमन का त्याग हो जाने से देश की संपत्ति और प्रतिभा भी विदेशों में जाने से बच जाती है।
अनर्थदंड-त्यागव्रत:-बिना प्रयोजन पाप कार्य करने को अनर्थ दंड व्रत कहते है।इनका त्याग करना अनर्थ दंड त्याग व्रत है।इस व्रत के ५ भेद है।
१. पपोदेश -बिना किसी प्रयोजन के खोटे व्यापार आदि पाप क्रियाओं का उपदेश देना।
२. हिंसादान- अस्त्र -शस्त्रादि हिंसक उपकरणों का आदान प्रदान करना तथा हिंसक सामग्री का व्यापार करना ।
३. अपध्यान:-बिना प्रयोजन किसी की जीत हार ,लाभ -हानि और जीवनमरण का चिंतन अपध्यान है।इस क्रियाओं में व्यर्थ ही समय नष्ट होता है तथा पाप का संग्रह होता है।अत:व्रती का इसका भी त्याग कर देता है।
४. प्रमादचर्या :- बिना मतलब पृथ्वी खोदना ,पानी बहाना ,बिजली जलाना,पंखा चलाना .आग जलाना तथा वनस्पति काटना ,तोडना आदि प्रयोजन रहित और प्रदुषण फ़ैलाने वाली क्रियाओं को प्रमाद चर्या कहते है।
५:-दु:श्रुति :-चित्त को कलुषित करने वाला अश्लील साहित्य पढना,सुनना तथा अश्लील गीत ,नाटक ,टेलीविजन एवं सिनेमा देखना दु:श्रुति है।चित्त में विकृति उत्पन्न करने वाले होने के कारण व्रती को इनका भी त्याग करना चाहिए ।
इसके अतिरिक्त दूसरों से व्यर्थ हंसी मजाक करना ,कुत्सित चेष्टाएँ करना ,व्यर्थ बकवाद करना तथा जिससे स्वयं को कोई लाभ न हो तथा दूसरों को व्यर्थ में कष्ट उठाना पड़े ,इसप्रकार हिताहित का विचार किये बिना कोई भी कार्य नहीं करना चाहिए।
भोगोपभोग-परिमाण व्रत:-भोग और उपभोग के साधनों का कुछ समय के लिए या जीवन पर्यन्त के लिए त्याग करना भोगोपभोग-परिमाण व्रत है।भोजन ,माला आदि एक ही बार उपयोग में आने योग्य वस्तु को भोग कहते है।तथा वस्त्राभूषण आदि बार बार उपयोग में आने वाली वस्तु को उपभोग कहते है।यह भोगोपभोग-परिमाण व्रत व्यक्तिगत निराकुलता एवं सामाजिक सद्भाव दोनों द्रष्टियों से उपयोगी है,क्यों कि इस व्रत के ग्रहण करने पर मनुष्य अनावश्यक खर्च और आकुलता से बच जाता है तथा एक जगह वस्तु का संग्रह न होने से वह दूसरों के लिये सुलभ हो जाती है। भोगोपभोग-परिमाण व्रती अपने खान पान में भी सात्विकता बनाये रखता है।वह मद्य,मांस और मधु का त्याग तो करता ही है अपने भोजन में मादकता बढ़ाने वाले पदार्थों का भी त्याग करता है।वह जमीन कंद का भी त्याग करदेता है। इसी प्रकार अशुचि जैसे गोमूत्र आदि का भी सेवन नहीं करता ।वर्तमान में प्रचलित ऐसी दवाइयों जिनके निर्माण का ठीक से पता नहीं चलता तथा जिसमे अशुचि पदार्थों के सम्मिश्रण कि आशंका रहती है उसका भी सेवन नहीं करता।
शिक्षा व्रतों का स्वरुप :-जिससे मुनि बनने की शिक्षा /प्रेरणा मिलती हो उसे शिक्षा व्रत कहते है।मुनि अवस्था में विशेष रूप से करने योग्य कार्यों का अभ्यास करना ही शिक्षा व्रत का प्रमुख उद्देश्य है।शिक्षा व्रत चार है -१.देशव्रत २. सामायिक ,३.प्रोषधोपवास व्रत और ४. अतिथि संविभाग व्रत।
१.देशव्रत :- दिग्व्रत में ली गयी जीवन भर की मर्यादा के भीतर भी अपनी आवश्यकताओं एवं प्रयोजन के अनुसार आवागमन को सीमित समय के लिए और कम करना देशव्रत है।इस व्रत के धारी श्रावक सीमा बांध लेता है की में अमुक समय तक अमुक स्थान तक ही लेनदेन का सम्बन्ध रखूँगा ।उससे बाहर के क्षेत्रों से न तो वह कुछ मांगता है ,न ही कुछ भेजता है।यही उसका देशव्रत है।
सामायिक :-समय आत्मा को कहते है।आत्मा के गुणों का चिंतन कर समता का अभ्यास करना सामायिक है।गृहस्थ प्रतिदिन दोनों संध्याओं में एक स्थान पर बैठकर समस्त पापों से विरत हो आत्म ध्यान का अभ्यास करता है।सामायिक ध्यान का श्रेष्ठ साधन है।मन की शुद्धि का श्रेष्ठ उपाय है।पाँचों व्रतों की पूर्णता सामायिक में हो जाती है। सामायिक में संसार,शरीर और भोगो के स्वरुप का चिंतन कर अपने मन को उनसे विरक्त करने का अभ्यास किया जाता है।उस समय विचार करना चाहिए कि संसार अशरण है,अशुभ है,संसार में दुःख ही दुःख है तथा वह नाशवान है ,परन्तु इसके अतिरिक्त मोक्ष ,सुख शांति का आगार और चिरन्तन है।इस प्रकार कि भावनाओं द्वारा अपने वैराग्य को द्रंढ कर आत्मा को समता में स्थिर किया जा सकता है।इस अभ्यास में णमोकार मंत्र आदि पदों का पाठ और जाप सहायक होने से वह भी सामायिक है परन्तु सामायिक में मंत्र जाप कि अपेक्षा चिंतन ही मुख्यता से किया जाता है।
३. प्रोषधोपवास :प्रोषध का अर्थ है एकाशन।दोनों पक्षो की अष्टमी तथा चतुर्दशी को पर्व कहते है।पर्व के दिनों में एकाशन पूर्वक उपवास करना प्रोषधोपवास व्रत है।
प्रोषधोपवास की विधि:- साधक को प्रत्येक पक्ष की अष्टमी और चतुर्दशी को उपवास करना चाहिए ।इसके पूर्व सप्तमी और त्रयोदशी को एकाशन करके जिनालय या गुरुओं के पास जाकर चारों प्रकार के आहार का त्याग करना चाहिए तथा शेष दिन धर्म ध्यान पूर्वक बिताना चाहिए । इसी प्रकार अष्टमी और चतुर्दशी को भी धर्म ध्यान पूर्वक बिता कर नवमी और पन्द्रस के दिन प्रात: देव पूजन कर अभ्यागत अतिथि को भोजन कराकर अनासक्त भाव से भोजन ग्रहण करना चाहिए ।यह प्रोषधोपवास व्रत की उत्तम विधि है।इसमें असमर्थ रहने वाला साधक उपवास की जगह मात्र जल या नीरस भोजन कर सकता है।इसमें भी असमर्थ रहने वालों के लिए कम से कम अष्टमी और चौदस को एकाशन करने का विधान है।इस व्रत के माध्यम से पक्ष में कम से कम दो दिन मुनियों की तरह एकाशन करने का अवसर मिल जाता है।उपवास के दिनों में गृहस्थी और व्यवसाय -धंधे के समस्त कामों को छोड़कर धर्म ध्यान पूर्वक बिताना चाहिए ।उपवास का अर्थ मात्र भोजन का त्याग नहीं है अपितु पाँचों इन्द्रियों के विषय को त्याग कर आत्मा के पास बैठने को उपवास कहते है।विषयों से विरक्त हुए बिना उपवास करना निष्फल है।वह तो लंघन की कोटि में आता है।
अतिथि संविभाग व्रत:-संयम के पालक अतिथिजनों को अपने लिए बनाये गए भोजन में से विभाग करके आहार प्रदान करना अतिथि संविभाग व्रत है । इस व्रत के धारी श्रावक प्रतिदिन अपने भोजन के पूर्व उत्तम ,मध्यम और जघन्य तीन प्रकार के पात्रों की प्रतीक्षा करता है।सम्यक्त्व सहित मुनि उत्तम पात्र है,आर्यिका ,ऐलक,क्षुल्लक क्षुल्लिका अथवा व्रती मध्यम पात्र है तथा शेष सम्यग्द्रष्टि साधर्मी जन जघन्य पात्र है।इसके आलावा विपरीत मिथ्याद्रष्टि व्रती संयमी कुपात्र है तथा सम्यक्त्व और शील व्रतों से रहित व्यक्ति अपात्र कहलाते है।व्रती श्रावक तीनो प्रकार के पात्रों में जो भी सैट पात्र मिलते है ,उन्हें वह विधि पूर्वक आहार करता है।